शिव की नगरी-वाराणसी

वरुणा और असि दो नदियों के मेल से बना है वाराणसी | वाराणसी यह दो नदियां है जो दो दिशाओं से आकर गंगा में समाहित हो जाती हैं। वाराणसी एक ऐसी नगरी जहां दूर-दूर तक गंगा की उच्छल धाराएं मोहित करती हैं तो गंगा की उन्मत्त धाराओं पर बहता मन मस्तिष्क बावरा हो जाता है। […]

कफ्नों और कब्रों पर गुलिस्तां सजाता : अफ़गानिस्तान

दक्षिण एवं पूर्व में पाकिस्तान, पश्चिम में ईरान, उत्तर में तुर्कमेनिस्तान, उज़्बेकिस्तान एवं ताजिकिस्तान तथा उत्तर- पूर्व में चीन से घिरा पहाड़ों और कबीलों का देश – अफगान भूमि – अफगानिस्तान – अपने अनूठे रंग-ढंग एवं व्यवहार के कारण विश्व भर में तकरीबन सब की स्मृति में स्थित हो चुका है। 6,52,000 स्क्वायर किलोमीटर क्षेत्रफल […]

रेत को जीवंत करते सुदर्शन पटनायक

एक ऐसी कला जिसे न सहेजने का मोह होता है न रखने का झंझट न बिकने का शौक न बेचने की चिंता। रेत की कला ‘सेंड आर्ट ‘ जो कितने पल तक ठहरेगा यह लहरों के भरोसे होता है। बनाने वाले को यदि यह मोह हो जाए कि इतनी मेहनत किस काम की जो कुछ […]

पृथ्वी : एक अकल्पनीय तथ्य !

हम सब जानते हैं कि पृथ्वी घूर्णन और परिक्रमण करती है हर क्षण-हर पल। पर क्या आपने कभी जानने की कोशिश की कि यह गति कितनी है? चलिए आज जानते हैं…पृथ्वी के घूर्णन (Rotation) की गति है – 1,600 किलोमीटर प्रति घंटे और पृथ्वी के परिक्रमण (Revolution) की गति है – 1,07,000 किलोमीटर प्रति घंटे […]

देश के गौरव महान सपूत : छत्रपति शिवाजी महाराज

शिवाजी का उद्भव देश का वह काल था, जब पूरा देश मुगलों के अत्याचारों से कराह रहा था। उस समय मुगलों का शासक औरंगजेब था। जो कि एक कट्टर मुस्लिम था। उसके काल में अन्य धर्मों के लोग बहुत कष्ट में थे। ऐसे समय में एक मसीहा के रूप में शिवाजी का पूरा अवतरण था। […]

महात्मा गांधी ‘बापू’ की शक्ति कस्तूर’बा’

दुनिया में बहुत सी ऐसी महिलाएं हुई हैं, जिनकी अपनी कोई पहचान नहीं थी। अपने पति की छत्रछाया में उनकी पत्नी मात्र होना ही जिनका वजूद था। मगर, कस्तूरबा गांधी यानि ‘बा’ केवल गांधी की पत्नी नहीं थीं। वह एक सशक्त और स्वावलंबी महिला थीं। यह महज संयोग ही था कि वह महात्मा गांधी से […]

Scroll to top